बियाडा ने आईडीपीएल का लीज किया रद्द, विवाद शुरू

मुजफ्फरपुरः बियाडा (बिहार औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकार) ने बेला औद्योगिक क्षेत्र स्थित इंडियन ड्रग्स एन्ड फेर्मसुइटिकल्स लिमिटिड (आईडीपीएल) के 25 एकड़ आवासीय जमींन का लीज रद्द कर दिया है. बियाडा के कार्यपालक निदेशक भोगेन्द्र लाल का कहना है कि बियाडा बोर्ड की बैठक में निर्णय लिया गया है और निर्णय से केंद्र के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय को सूचित कर दिया गया है.

बियाडा का कहना है कि विगत 10 वर्षों से उक्त जमीन खाली पड़ा हुआ है. 65 एकड़ जमीन में से सिर्फ 25 एकड़ का लीज समाप्त किया गया है. क्योंकि अभी तक कई नोटिस देने के बाद भी निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ है.ज्ञात हो की केंद्र की आईडीपीएल की 05 यूनिट है और उसमें से यह मुजफ्फरपुर का एक यूनिट है, जिसे बियाडा प्रभावित कर रहा है.biada1233

आईडीपीएल के प्रबंधक विद्यासागर शर्मा का कहना है कि इस यूनिट के साथ अन्य चार यूनिटों के जीर्णोद्धार का पैकेज तैयार है लेकिन कैबिनेट में विचाराधीन है, और इसकी जानकारी बियाडा को है, फिर भी लीज ख़त्म किया गया है. जो गलत है. बियाडा का कहना है कि वर्ष 1980 से अभी तक लीज मद में पैसा नहीं दिया गया है. वर्ष 1976 में आईडीपीएल की स्थापना की गयी थी.वह भी तत्कालीन उद्योग मंत्री जार्ज फ़र्नान्डिस की पहल पर और राम विलास पासवान ने इसकी उत्पादन के लिए पहल किया.जिसमें वर्ष 1980 से उत्पादन शुरू है. वर्ष 1980 से 1993 तक इस यूनिट से erythromycin एंटीबायोटिक का उत्पादन होता रहा है.इस यूनिट से विटामिन बी काम्प्लेक्स के प्रमुख अवयव एसिटिक एसिड सहित कई अवयव 1996 तक बनता रहा है, लेकिनदिसंबर 1996 में यह यूनिट पैसे के भाव में बंद हो गया, लेकिन श्री पासवान के पहल पर वर्ष 2009 में शुरू हुआ जो नवम्बर 2010तक चला और फिर बंद हो गया.

बियाडा ने केंद्र सरकार के इस उपक्रम को 99 वर्ष के लीज पर दिया था और 25 वर्ष पूरे भी नहीं हुए है. बियाडा ने लीज कैंसिल कर विवाद शुरू कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि बियाडा एसएसबी को जमीन देने को इक्छुक है, लेकिन कई प्रमुख लोगों ने विरोध शुरू कर दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *